हम सब के दिग्दर्शक डॉ राम कृष्ण शर्मा जी (गोहाना निवासी)

लाड़फ स्टोरी

अत्यन्त दुर्लभ है मानव योनि। विधाता ने मनुष्य योनि का अनुपम उपहार दिया है तो यह हमारा प्रथम कर्तव्य है-मनुर्भव यानी हम मनुष्य कहलाएं ही नहीं, मनुष्य बनें भी सही। अपकार नहीं, उपकार हो हमारे जीवन का मूलमंत्रा किसी का कितना भी सम्भव हो, भला करो। पर: बुरा किसी का भी न करो। परमेश्वर ने जिस योग्य आप को बनाया है, उस के सब फर्ज पूरी ईमानदारी से निभाओ, यही सच्ची मानवता

यह संदेश है 48 साल तक गोहाना को अपनी प्रैक्टिस से तंदुरुस्त रखने वाले 80 साल के डा. राम कृष्ण शर्मा का। मूलत: राजस्थान के जैसलमेर जिले के फलौदी गांव का है उनका पुष्करणा कुटुम्ब।­ दादा स्व. केशव लाल प्रख्यात वैद्य थे। चिकित्सा उन्हें पाकिस्तान में खींच कर ले गई। 22 फरवरी 1940 को ब्लूचिस्तान में फोर्ट संडेमैन में जन्म हुआ राम कृष्ण का। 1997 में जब पिता डा. हरदयाल शर्मा काल-कवलित हुए, तब साल के अनुरूप उनकी आयु भी 97 साल थी। मां लीलावती शर्मा 9 साल की आयु में 1996 में गुजरी।

तीन भाइयों में राम कृष्ण सबसे बढ़े हैं। मंझले भाई डा. राम शंकर दिवंगत हो चुके हैं। उनकी पत्नी दर्शना और परिवार रोहिणी में रह रहा है। सबसे छोटे भाई गिरिजा शंकर हैं। उनकी पत्नी स्जनीश बाला हैं। उनका परिवार चंडीगढ़ मे स्थापित है। राम कृष्ण की बहनें 7 हैं। सबसे बड़ी बहन चंद्रकला और उनके हसबैंड श्याम सुंदर, दोनों का निधन हो चुका है। वे चंडीगढ़ निवासी थे। दूसरी बहन जयपुर निवासी राधा हैं।

उनके पति बिशन लाल हर्ष का भी स्वर्गवास हो चुका है। तीसरे नम्बर की बहन राम प्यारी पंजाब के जिले के दीनानगर में रहती हैं। उनके पति ज्ञान चंद पाराशर का भी देहावसान हो चुका है। चौथे नम्बर की बहन कांता थीं। वह राम कृष्ण परिवार के साथ गोहाना में रहती थीं। 2013 में वह भी चल बसी थीं। 5वीं बहन लक्ष्मी दिल्‍ली में ‘कालकाजी में रहती हैं। उनके पति स्व. प्राणनाथ पुरोहित थे। छठी बहन भागवती और उनके जीवन साथी मुंशी लाल शर्मा दिल्‍ली में वसुंधरा निवासी हैं। सबसे छोटी बहन वीना और उनके पति आचार्य विनयशील नोएडा में रहते हैं।

1947 के विभाजन में जब शर्मा परिवार भारत आया, राम कृष्ण तब पहली कक्षा पास कर चुके थे। प्राइमरी शिक्षा गोहाना में हुई। आगे की स्कूलिंग के लिए पंजाब के गोबिन्दगढ़ स्थित मंडीफूल में चाचा गणपत शास्त्री के पास चले गए  प्री-मैडीकल शिक्षा कालकाजी, दिल्ली स्थित दीनबंधु कालेज से प्राप्त की। जी.एएम.एस. रोहतक में अस्थल- बोहर स्थित बाबा मस्तनाथ कालेज से की।

 सरकारी सेवा में चयनित हुए। एक साल इंडी के सरकारी अस्पताल में रहे। उसके बाद इस्तीफा दे कर 1969 से पिता डा. हरदयाल शर्मा के सानिध्य मे गोहाना मे प्रैक्सिस करने लगे। 20।7 तक एक्टिव प्रैक्टिस करने के पश्चात चिकित्सक बेटे डा. विद्या सागर शर्माके सुपुर्द अपनी मैडीकल विरासत कर दी।

।3 जुलाई 1967 को करनाल में परिणय सूत्र में बंधे। उनकी लाइफ पार्टनर डा.विमला शर्मा भी उनकी भांति सधी हुई चिकित्सक रही हैं। डा. राम कृष्ण शर्मा के ससुर जुगल किशोर पाराशर इसी साल 26 जनवरी को शतक से चूकते हुए 99 साल की उम्र में राम को प्योरे हुए।

उनकी सास कौशल्या पाराशर का स्वर्गवास 20।2 में हुआ था। डा. राम कृष्ण के दो साले और दो ही सालियां रहे। बड़े साले भारत भूषण और उनकी पत्नी सुमन बाला पाराशर हैं। छोटे साले कुलभूषण पाराशर और उनकी पत्नी आशा पादाशर हैं। डा राम कृष्ण की साली कमला शर्मा का परिवार करनाल में स्थापित है। कमला के हसबैंड स्व. हरि चंद शर्मा थे। छोटी साली स्व. सुदेश और उनके पति स्व. आचार्य आशकरण मुम्बई निवासी थे।

डा. राम कृष्ण शर्मा और डा. विमला शर्मा के 2 बेटे और एक बेटी है। बड़े बेटे रा प्रसाद शर्मा खानपुर कलां गांव में स्थित जी.पी.एस. राजकीय महिला मैडीकल कालेज में टैक्नीकल ऑफिसर है। समा प्रसाद की पत्नी रमा है। रमा प्रसाद और रमा के दोनों बच्चे बी.ए.एम.एस. कर रहे हैं।

बिटिया अपर्णा जीन्द स्थित कंडेला और बेटा मधुसूदन पंजाब के फिरोजपुर से भावी चिकित्सक बनने वाले हैं। डा. राम कृष्ण और डा. विमला के छोटे बेटे डा. विद्या सागर पुश्तैनी दयाल क्लिनिक का सफल परिचालन कर रहे है। विद्या सागर की पत्नी शोधना हैं। इस दम्पति की एक ही बेटी वंशिका होली फैमिली स्कूल में ।।वीं की स्टूडेंट है इसी स्कूल में वंशिका की मम्मी शोभना साइंस और बड़ी मम्मी रमा हिन्दी सब्जैक्ट की टीचर हैं।

डा. राम कृष्ण शर्मा-डा. विमला शर्मा की एकमात्र बेटी नन्दिनी पुरोहित अपने जीवन साथी राजन पुरोहित के साथ दिल्ली के मयूर विहार में रह रही हैं। नन्दिनी और राजन के दो बच्चे हैं। बेटी रिदम एम.बी.ए. कर रही है। बेटा कार्तिक बी.बी.ए. के बाद बैंक में जॉब कर रहा है।

केंद्रीय पुष्करणा ब्राह्मण सभा (पंजीकृत) को आप पर गर्व है। प्रभु से प्रार्थना है कि आप दीर्घायु हों। श्री नाथ जी आपको शक्ति दें और आप इसी प्रकार समाज सेवा करते रहें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll Up