In Memory of Late Dr. Hardyal Ji Sharma

Dr Hardyal Sharma

चिकित्सा क्षेत्र की एक महान विभूति। स्वर्गीय डॉ हर दयाल जी कल्ला

 

जिनका जन्म सन 1900 में अखण्ड भारत के डेरा इस्माईल खान (जो अब पाकिस्तान में है) में (श्री केशो लाल जी कल्ला जो संस्कृत के उच्च कोटि के विद्वान होने के साथ साथ वैद्य भी थे) के घर हुआ। इनकी माता श्रीमती गोपाली देवी जी गज्जा परिवार की पुत्री थीं।

श्रीमती गोपाली देवी अति सरल स्वभाव और धर्म परायण महिला थीं। डॉ हरदयाल जी कल्ला बाल्यकाल से ही अपने दादा श्री कृष्ण चन्द्र जी के सान्निध्य में रहे और उन्ही से संध्या वंदन, आरती व श्री रामचरित मानस की चौपाइयों से ही अपने दिन के प्रारम्भ का नियम बना लिया। स्कूल की शिक्षा के उपरांत डॉ हरदयाल जी ने अपने पिता के व्यवसाय को ही आगे बढ़ाते हुए एक एलोपैथिक चिकित्सक के रूप में ख्याति प्राप्त की और पुष्करणा समाज/बिरादरी के पहले एलोपैथिक चिकित्सक के रूप में ख्याति प्राप्त की। आपका विवाह जोशी परिवार की सुपुत्री लीलावती से हुआ।

परिवार में तीन पुत्र और सात पुत्रियों का लालन पालन करते हुए अंततः हरयाणा प्रदेश के गोहाना शहर में दयाल अस्पताल के माध्यम से समूचे गोहाना शहर को अपनी सेवाओं से लाभान्वित किया। प्रतिदिन श्री गीताजी के 18 अध्याय पढ़ना इनकी दिनचर्या में शामिल था। जीवन पर्यन्त डॉ हर दयाल शर्मा स्वस्थ रहे और दीर्घायु जीवन प्राप्त करते हुए 97 वर्ष की आयु में हृदयगति रुकने से गोलोक धाम को चले गए। उनके चरणों मे शत शत नमन।

 

डॉ राम कृष्ण कल्ला गोहाना एवम गिरिजा शंकर कल्ला चंडीगढ़।
सुपुत्र डॉ हर दयाल जी कल्ला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll Up