Pushkarna Gaurav – Shri Bhushan Lal Parashar Ji

?? पुष्करणा गौरव ??

Bhushan
Shri Bhushan Lal Parashar Ji

केन्द्रीय पुष्करणा ब्राह्मण सभा (रजि•) आज अपने समाज के उस दीप्तीमान नक्षत्र के विषय में उल्लेख कर रही है जो किसी परिचय के अपेक्षाकारी नहीं हैं प्रस्तुत है केन्द्रीय पुष्करणा ब्राह्मण सभा के पूर्व प्रधान और वर्तमान में सभा के मुख्य संरक्षक के पद पर सुशोभित श्री भूषण लाल जी पाराशर (B.L. Parashar) जी का संक्षिप्त जीवन परिचय.

समाजसेवी एवं वैज्ञानिक श्री भूषण लाल पाराशर जी का जन्म अविभाज्य भारत के मुल्तान प्रांत के शूजाबाद में 2 दिसम्बर 1936 में हुआ था. आपके पूज्य पिताश्री स्व• श्री पुरूषोत्तम दास जी भी प्रसिद्ध समाजसेवी थे. आपश्री के नानाश्री संस्कृत के प्रकांड विद्वान और आचार्य वंश के परम आदरणीय श्री गणेशदत्त जी शास्त्री जो श्रीमद् भागवत के गूढ़ ज्ञानी थे. श्री पाराशर जी ने इन्हीं महापुरुषों के संस्कारों परिणामस्वरूप प्रथम B.Sc. में स्नातक तत्पश्चात Economics में स्नातकोत्तर की की डिग्री प्राप्त की.

श्री पाराशर जी केन्द्रीय सड़क अनुसंधान संस्थान में उच्च वैज्ञानिक पद पर रह कर देश विदेश का भ्रमण किया और सडक विकास अनुसंधान पर महत्वपूर्ण योगदान दिया. आपश्री के विभिन्न सामाजिक सेवाओं में उतक्रष्ट योगदान से पुष्करणा समाज अपने आपको गौरवान्वित अनुभव करता है. ऐसी कोई संस्था नहीं जिस में आपश्री का कोई योगदान ना हो.

आपकी सेवाओं के लिए आपको कई राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय सम्मानों से सम्मानित किया गया है जिनमें प्रमुख संस्थायें जिन्होंने सम्मानित किया है वो हैं: भारत विकास परिषद अंतराष्ट्रीय मंदिर सम्मेलन श्री सिद्धी विनायक मंदिर एवं विज्ञान पर हिन्दी लेखन को प्रोत्साहन देने पर Council of Scientific & Industrial Research का सम्मान उल्लेखनीय हैं.

वस्तुत: आपश्री के समस्त कार्यों को लिपिबद्ध करने के लिए एक पुस्तक की आवश्यकता होगी. आपके कुछ प्रमुख कार्य हैं: पूर्वोत्तर राज्यों में वनवासी कल्याण आश्रम जिसमें वहाँ के विधालयों और चिकित्सालयों का समुचित प्रबन्ध किया, राजस्थान के वनवासियों का उत्थान, भारत विकास परिषद के अंतर्गत सामुहिक सरल विवाह का आयोजन किया

D.A.V. Model Public School यूसुफ़ सराय के सदस्य, श्री सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा, दिल्ली प्रान्त के कई पदों पर आसीन रहे. आपश्री श्री सनातन धर्म मंदिर, C-3, जनकपुरी की स्थापना के बाद से अध्यक्ष अथवा महामंत्री हैं. स्वदेशी गौवंश संवर्धन के प्रति समर्पित राष्ट्रीय गोधन महासंघ के कई पदों पर रह कर गौ सेवा में समाहित रहे हैं. प्रसिद्ध धर्मगुरु श्री सुधांशु जी महाराज ने आपके समाजसेवी कार्यों के लिए आपको सत्यकीर्ती सम्मान से सम्मानित किया.

आप एक उत्कर्ष लेखक ओजस्वी वक्ता और सत्य सनातन धर्म के प्रकाण्ड ज्ञाता हैं और सनातन धर्म से जुड़ी कई संस्थाओं के प्रवर्तक हैं.

केन्द्रीय पुष्करणा ब्राह्मण सभा अपने मुख्य संरक्षक की दीर्घायु एवं स्वस्थ जीवन की कामना करती है..शुभ कल्याणमस्तु ??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll Up